चीसे हुए पन्ने 

IMG_5466

आँखों की हैंरानिया तुमसे कुछ कहना चाहती हैं,

आधा लिखा हुआ अक्षर,

पुराने ख्वाबो की तरह

टंगा सा लगता हैं,

टूटे हुए चाय के कप में ,

खुरचा हुआ सपना दिखाई देता हैं,

क्यों बेचैन हु आज?

किस ताले की चाबी को तलाशती हूँ?

क्या हैं जिसे आज भी पुकारती हूँ?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s